Month: November 2020

नया साल 2021 कैसे मनाए

नया साल 2021 कैसे मनाए? पर बीतने वाला 2020 पूरी दुनिया के लिए एक कड़वा अनुभव रहा है!  गुजरने वाला साल 2020 हमें नई सीख देकर जा रहा है।  2021 …

नया साल 2021 कैसे मनाए Read More »

बुद्धिमान इंसान की 10 अच्छी आदतें

  अनोखे लोगों की 10 आदतें# अच्छी आदतें#  बुद्धिमान लोग की पहचान कैसे होती है।  बुद्धिमान लोगों की आदतें उनकी पहचान होती है।  किसी बुद्धिमान व्यक्तित्व को पहचानने के लिए उनके …

बुद्धिमान इंसान की 10 अच्छी आदतें Read More »

बच्चे को समझाने का आध्यात्मिक तरीका

जैसे-जैसे हम मॉडर्न युग में बढ़ रहे हैं! हमें सबसे बड़ा सामना अपनी युवा पीढ़ी के अनुशासनहीनता से करना पड़ रहा है। बच्चे के अंदर नैतिकता और अनुशासन का बीज …

बच्चे को समझाने का आध्यात्मिक तरीका Read More »

16 संस्कार क्या है? संस्कार कौन-कौन से हैं?

16 संस्कार क्या है? संस्कार कौन-कौन से हैं? मनुष्य के जीवन में कितने संस्कार होते हैं? भारतीय जीवन में संस्कार का क्या महत्व है? हिंदू धर्म हिंदू जीवन पद्धति भी …

16 संस्कार क्या है? संस्कार कौन-कौन से हैं? Read More »

तांबे का बर्तन सेहत के लिए अच्छा क्यों, तांबे का बर्तन पूजा पाठ में क्यों इस्तेमाल होता है? विज्ञान और पौराणिक कथा

प्राचीन काल से ही तांबे के बर्तन का इस्तेमाल हिंदू संस्कृति में होता रहा है। पूजा पाठ में तांबे के बर्तन का इस्तेमाल क्यों किया जाता है इसके बारे में …

तांबे का बर्तन सेहत के लिए अच्छा क्यों, तांबे का बर्तन पूजा पाठ में क्यों इस्तेमाल होता है? विज्ञान और पौराणिक कथा Read More »

दीपावली के दिन लक्ष्मी और गणेश की पूजा क्यों होती है?

दीपावली के दिन लक्ष्मी और गणेश की पूजा क्यों होती है?
देवी लक्ष्मी देवी धन की देवी हैं और गणेश जी बुद्धि के देवता हैं। दीपावली के दिन लक्ष्मी और गणेश जी की साथ पूजा क्यों होती है। इसके पीछे कई तरह की पौराणिक कथाएं भी हैं।

15 तरह के दीपक आपकी हर इच्छा पूरी करेंगे

यह 15 तरह के दीपक हैं। अलग-अलग इच्छाओं के लिए अलग-अलग तरह के दीपक जलाए जाते हैं आइए जानें इनके बारे में।  दीपक जलाने से अंधेरा दूर होता है। दीपावली …

15 तरह के दीपक आपकी हर इच्छा पूरी करेंगे Read More »

ब्रह्म मुहूर्त क्या है, वैज्ञानिक और धार्मिक महत्व

ब्रह्म मुहूर्त किसे कहते हैं? इसका वैज्ञानिक और धार्मिक महत्व क्या है? हिंदू संस्कृति के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त सूर्य उगने से पहले होता है। ब्रह्म मुहूर्त सूर्य उदय के डेढ़ घंटा पहले माना गया है। ज्योतिष भाषा में इसे सूर्योदय से चार घड़ी पहले को ब्रह्म मुहूर्त कहते हैं। ब्रह्म मुहूर्त का समय सुबह 4:00 से 5:30 तक का होता है जिसे ब्रह्म मुहूर्त भी कहते हैं। ब्रह्म मुहूर्त में उठने से सुंदरता शरीर की शक्ति ज्ञान बुद्धि और और शारीरिक स्वास्थ्य बेहतर होता है। ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने से शरीर और मन दोनों स्वास्थ्य रहते हैं।

Scroll to Top