बुद्धि क्या है| इसके कितने आयाम होते हैं| जीवन में क्या महत्व है?

बुद्धि (Budhi) के 5 आयाम होते हैं।  बुद्धि किसी चीज की पहचान आकार, ध्वनि, सुगंध  स्वाद और स्पर्श से करता है।

dimension आयाम इसका अर्थ होता है की लंबाई चौड़ाई ऊंचाई गहराई इत्यादि जबकि आध्यात्मिक आयाम भौतिक आकार प्रकार से परे होता है।

तर्क वाले आयाम (dimension) को बुद्धि कहा जाता है। जब हम कोई तर्क की बात करते हैं तो उस आयाम को बुद्धि कहा जाता है। बुद्धि के 5 आयाम होते हैं। इन पांचों आयाम का हमारे जीवन में क्या महत्व है। यह सब बातें  जानना हर इंसान के लिए जरूरी है। क्योंकि हम बुद्धि के फेर में ही पड़े रहते हैं।

बुद्धि क्या है?

 5 ज्ञानेंद्रियों (5 sense organs) के माध्यम से जो ज्ञान या सूचना मिलती है, बुद्धि उन्हीं की व्याख्या करती है। बुद्धि हमारे अनुभव के आधार पर ही हमें किसी चीज के बारे में बताती है।

 बुद्धि का आयाम (Dimension)

 मन के चार आयामों में बुद्धि एक आयाम (Dimession) होता है।  बौद्धिक बहुत ही ग्रुप में है इसको अंग्रेजी में माइंड शब्द से संबोधित किया जाता है। लेकिन इस एक शब्द से हम हर बात को नहीं समझ सकते हैं।

बुद्धि की विशेषताएं

क्या आप जानते हैं कि बुद्धि का ज्ञान तथ्यों पर आधारित होता है।  जैसे सूरज पूरब से निकलता है या एक तरह का Fact यानी तथ्य है। तथ्यों के आधार पर ही बुद्धि इस दुनिया में काम करती है और हम अपने रोजमर्रा के जीवन बुद्धि से ही सरल और सहज बना पाते हैं।

बुद्धि तथ्यपरक (Factual) है, यह तथ्यों को समझती है, उन्हें अपने भीतर उतारती है, उनका आकलन करती है और इस दुनिया के कामकाज में हमारी मदद करती है।  लेकिन आध्यात्मिक दुनिया में बुद्धि का उतना महत्व नहीं है लेकिन इस सामाजिक दुनिया में बुद्धि को भी ज्यादा महत्व दिया जाता है और समस्या यहीं से शुरू हो जाती है।

  मन के चार आयाम के समूह में बुद्धि एक आयाम है। लेकिन इन समूह में कुल 16  आयाम होते हैं, जिन्हें अध्यात्म और योग परंपरा में बहुत महत्व दिया जाता है। इसमें एक आयाम एक प्रज्ञा है। इस प्रज्ञा के पहलू को हम नजरअंदाज कर देते हैं जबकि बुद्धि केवल एक कुशलता और तर्क फर ही काम करता है। जैसा हमने सामाजिक जीवन में अनुभव को किया है, इसी के आधार पर बुद्धि काम करती है।

 बुद्धि तथ्य और तर्क से जुड़ी है जब हम बुद्धि कहते हैं तो यह मन के तार्किक पक्ष होता है। यानी की बुद्धि कभी यह मानने के लिए तैयार नहीं होगी कि  4 और 4 को जोड़ दें तो 10 होता है।

जानिए बुद्धि के 5 आयाम 

 देखिए बुद्धि काम कैसे करती है। उसे 5 तरह की जानकारियां हासिल करनी होती है। इसी वजह से बुद्धि काम करती है। बुद्धि के इस जरूरी अंग को हम आयाम भी कह सकते हैं, जो 5 तरह की इंद्रियां हैं। बुद्धि के 5 बुनियादी रूप होते हैं। आकार, ध्वनि, सुगंध, स्वाद और स्पर्श हैं। बुद्धि अपना निर्णय किसी वस्तु के आकार को देखकर या पहले सुनी हुई ध्वनि या किसी तरह की सुगंध और स्वाद स्पर्श से ही निर्णय लेता है। रोजमर्रा के जीवन में बुद्धि हमें कामकाज में मदद करती है। बुद्धि भौतिक वस्तु की तरह है जो हमारे शरीर का एक हिस्सा है और वह इन पांच ज्ञानेंद्रियों के माध्यम से हमारे जीवन को सरल बना देती है।

 इतिहास को जानना या किसी चीज को सीखना यह सब बुद्धि के रूप/ आयामों के आधार पर हम आसानी से समझ लेते हैं। इसलिए आधुनिक शिक्षा बुद्धि पर जोर देती है। लेकिन जब हम इस आध्यात्मिक जगत को जानना चाहते हैं तो सवाल उठता है कि हम कौन हैं? इस प्रश्न से जानना चाहते हैं तो हमें बुद्धि और उनके 5 आयामों की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि बुद्धि भौतिक वस्तु है।  आध्यात्मिक इस भौतिक वस्तु से अलग अभौतिक वस्तु का ज्ञान है।  इसलिए आध्यात्मिक ज्ञान को हासिल करने के लिए बुद्धि पर निर्भर नहीं रहा जा सकता है। मन के गहरे चित्त से हम और भौतिक ज्ञान को प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Share via
Copy link
Powered by Social Snap